रिव्यू-‘धड़क’ न तो ‘सैराट’ है न ‘झिंगाट’

ऊंची जात की अमीर लड़की।नीची जात का गरीब लड़का।आकर्षित हुए, पहले दोस्ती,फिर प्यार कर बैठे। घर वालेआड़े आए तो दोनों भाग गए।जिंदगी की कड़वाहट कोकरीब से देखा, सहा और धीरे-धीरे सब पटरी पर आ गया।लेकिन…!

इस कहानी में नया क्या है, सिवाय अंत में आने वाले एकजबर्दस्त ट्विस्ट के? कुछ भी तो नहीं। फिर इसी कहानी परबनी मराठी की ‘सैराट’ कैसे इतनी बड़ी हिट हो गई कितमाम भाषाओं में उसके रीमेक बनने लगे। कुछ बात तोजरूर रही होगी उसमें। तो चलिए, उसका हिन्दी रीमेक भीबना देते हैं। कहानी को महाराष्ट्र के गांव से उठा करराजस्थान के उदयपुर शहर में फिट कर देते हैं। हर बात, हरसंवाद में ओ-ओ लगा देते हैं। थारो, म्हारो, आयो, जायो, थे,कथे, कोणी, तन्नै, मन्नै जैसे शब्द डाल देते हैं (अरे यार,उदयपुर जाकर देखो, लोग प्रॉपर हिन्दी भी बोल लेते हैं।और हां, यह ‘पनौती’ शब्द मुंबईया है, राजस्थानी नहीं)। हां,गानों के बोल हिन्दी वाले रखेंगे और संगीत मूल मराठीफिल्म वाला(ज्यादा मेहनत क्यों करें)। ईशान खट्टर औरजाह्नवी कपूर जैसे मनभावन चेहरे, शानदार लोकेशंस, रंग-बिरंगे सैट, उदयपुर की खूबसूरती… ये सब मिल कर इतनाअसर तो छोड़ ही देंगे कि पब्लिक इसे देखने के लिएलपकी चली आए।

तो जनाब, इसे कहते हैं पैकेजिंग वाली फिल्में। जब आपदो और दो चार जमा तीन सात गुणा दस बराबर सत्तर करतेहैं तो आप असल में मुनाफे की कैलकुलेशन कर रहे होते हैंन कि उम्दा सिनेमा बनाने की कवायद।

दो अलग-अलगहैसियतों याजातियों केलड़के-लड़कीका प्यार औरबीच में उनकेघरवालों का आ जाना हमारी फिल्मों के लिए कोई नया याअनोखा विषय नहीं है। मराठी वाली ‘सैराट’ के इसी विषयपर होने के बावजूद मराठी सिनेमा की सबसे बड़ी हिटफिल्म बनने के पीछे के कारणों पर अलग से और विस्तारसे चर्चा करनी होगी। लेकिन ठीक वही कारण आकर उसकेहिन्दी रीमेक को भी दिलों में जगह दिलवा देंगे, यह सोच हीगलत है। बतौर निर्माता करण जौहर का जोर अगरपैकेजिंग पर रहा तो उसे भी गलत नहीं कहा जा सकता।‘हंपटी शर्मा की दुल्हनिया’ और ‘बद्रीनाथ की दुल्हनिया’जैसी कामयाब फिल्में दे चुके शशांक खेतान की इस फिल्मको हिन्दी में लिखने और बनाने में लगी मेहनत दिखती हैलेकिन जिस किस्म की मासूमियत, गहराई, संजीदगी,इमोशंस और परिपक्वता की इसमें दरकार थी, उसे ला पानेमें शशांक चूके हैं-बतौर लेखक और बतौर निर्देशक भी।फिल्म के संवाद काफी साधारण हैं, एक भी ऐसा नहीं जोअसर छोड़ सके। फिल्म की एडिटिंग सुस्त है।

किशोर उम्र की प्रेम-कहानियां यानी टीनऐजर लव स्टोरीअगर कायदे से बनी हों तो तो बचकानी लगने के बावजूददेखी और सराही जाती है। इस फिल्म के शुरूआती हिस्सेमें लड़का-लड़की का एक-दूजे की तरफ बढ़ने का हल्का-फुल्का हिस्सा प्यारा लगता है। लेकिन बाद वाले हिस्से मेंमामला ठस्स पड़ जाता है। नतीजे के तौर पर न तो हमेंनायक-नायिका से हमदर्दी होती है, न उनका दर्द महसूसहोता है और न ही हम उनके संघर्ष के सफर के साथी बनपाते हैं। फिल्म बड़ी ही आसानी से अमीर-गरीब या ऊंच-नीच वाले विषय पर ठोस बात कह सकती थी लेकिनलगता है कि बनाने वालों ने पहले से ही किसी विवाद यागंभीर बहस में न पड़ने की ठान रखी थी।

ईशान अपने किरदारमें फिट रहे हैं। उनकेकाम में दम दिखता है।हालांकि उन पर बड़ेभाई शाहिद कपूर काकाफी असर नजरआता है। जाह्नवी स्टारमैटीरियल हैं। अपने किरदार के मुताबिक जरूरी अकड़और दमक दिखाने में वह कामयाब रही हैं। संवाद अदायगीमें सुधार लाकर वह और चमकेंगी। इमोशनल दृश्यों में उन्हेंअभी और मैच्योर होने की जरूरत है।

यह फिल्म एक खूबसूरत काया भर है-बिना दिल की, बिनाधड़कन की। ‘सैराट’ की छाया से परे जाकर और उससेतुलना किए बिना देखें तो भी यह एक आम, साधारणप्रॉडक्ट ही बन पाई है। इसमें वो बात नहीं है जो आपकेदिलों की धड़कनों को तेज कर सके या उन्हें थाम सके। हां,टाइम पास के लिए यह बुरी नहीं है।

Related posts

Leave a Comment