कन्या भ्रूण हत्या पर आधारित मार्मिक फिल्म-‘मुझे भी यह दुनिया देखनी है’ को मिला सामाजिक जागरूकता पुरुस्कार |

फिल्म- ' मुझे भी यह दुनिया देखनी है ' फिल्म- ' मुझे भी यह दुनिया देखनी है '

संवाद प्रेषक: काली दास पाण्डेय

सामाजिक घटनाओं पर जो फिल्में बनती है वह मनोरंजन के दायरे से बाहर  ही होती है , फिल्मकार का मुख्य उद्देश्य फ़िल्म के जरिये एक संदेश देना होता है ताकि समाज में जागृति फैले और अंधविश्वास रूढ़िवाद का अंत हो। इसी उद्देश्य के तहत जेनुइन एंटरटेनमेंट कार्पोरेशन के बैनर तले बनी  फिल्म-‘मुझे भी यह दुनिया देखनी है’ का भी निर्माण हुआ।यह फिल्म फ्लोर पर जाने के बाद से ही चर्चा में थी।  पिछले दिनों अंतरराष्ट्रीय ब्रांड कंसल्टिंग कॉरपोरेशन (यूएसए) द्वारा इस फिल्म को सर्वश्रेष्ठ सामाजिक जागरूकता फिल्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।  इसी के संदर्भ में मुंबई प्रेस क्लब में एक प्रेस कांफ्रेंस आयोजित की गई, जिसमें राजेश वनजारा, जयश्रीटी, निर्देशक सत्यप्रकाश मंगतानी आदि उपस्थित रहे। इस दौरान फिल्म से जुड़ी बीते ज़माने की मशहूर अभिनेत्री जयश्री टी ने  कहा कि इस मार्मिक फिल्म से जुडक़र वह काफी खुश है ।सत्यप्रकाश मंगतानी निर्देशित फिल्म ‘ मुझे भी यह दुनिया देखनी है ‘ मूल रूप से बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ जनजागृति अभियान से जुड़ी हुई है तथा इस फ़िल्म में सास बहू में भावनात्मक संबंध को भी दिखाया गया है ।
इस फ़िल्म में मुकेश खन्ना , विजू खोटे , जयश्री टी सहित कई मंजे हुए कलाकार ने अभिनय किये हैं ।इस फ़िल्म के संगीतकार श्रीहरि वाज़ हैं।

Related posts

Leave a Comment