फिल्म समीक्षा: फन्ने खां

फन्ने खां

फन्ने खां साधारण फ़िल्म दोस्तों जब कोई शख्स अपने ख्वाब पूरे नही कर पाता तो वह यही ख्वाब अपने बच्चों के साथ सजाने लगता है दंगल, अपने, बॉक्सर ओर भी कई फिल्में इसकी उदाहरण रही है फन्ने खां एक आम आदमी प्रशांत शर्मा (अनिल कपूर) की कहानी है जो कि एक कामयाब गायक बनना चाहता है लेकिन फेक्ट्री में काम करता है परिवार के खातिर| काम बंद हो जाता है तो टेक्सी चलाने लगता है परिवार के लिए, सपना कहि धूमिल होकर खोने लगता है या परिवारिक जद्दोजहद में गुम…

पूरा पढ़िए...

धड़क – प्यार भरी धड़कन

निर्देशक :- शशांक खैतान संगीत :- अतुल-अजय कास्ट:- इशांत खट्टर, जहान्वी कपूर, आशुतोष राणा, खरज मुखर्जी, विश्वनाथ चटर्जी अवधि :- 137 मिनट मूल परिकल्पना मराठी फिल्म सैराट का रीमेक है फ़िल्म सैराट मराठी सिनेमा की केवल एक फ़िल्म नही वृतांत थी जिसकी लागत महज 4 करोड़ थी और आमदनी 120 करोड़ ₹ फ़िल्म सैराट का यह पहला रीमेक नही हैं धड़क के पहले भी पंजाबी, कन्नड़, उड़िया भाषा मे रीमेक बन चुके है पंजाबी में पंकज बत्रा चन्ना मोरिया नाम से, कन्नड़ में मानसु मल्लिगे, उड़िया भाषा मे लैला ओ…

पूरा पढ़िए...

फिल्म समीक्षा: ‘दिल्ली 47 किमी’

'दिल्ली 47 किमी'

www.filmykhabarmantra.com #ReviewRating: 4 star / 5 star फिल्मो को समाज का आइना कहा जाता है. फिल्मकार अपने अपने ढंग से देश और समाज में व्याप्त समस्याओं को दिखाते रहते हैं. इस हफ़्ते रिलीज़ हुई युवा निर्देशक शादाब खान की फिल्म ‘दिल्ली 47 किमी’ समाज की कुछ कडवी सच्चाइयों को बड़ी बेबाकी से दिखाती है. “बीए पास 2′ के फिल्मकार शादाब खान ने अपनी फिल्म ‘दिल्ली 47 किमी’ में समाज के कुछ मुद्दों को बड़ी बेबाकी से दिखाया है. इस फ़िल्म के माध्यम से डायरेक्टर ने तालीम की अहमियत पर ध्यान…

पूरा पढ़िए...

रिव्यू-‘धड़क’ न तो ‘सैराट’ है न ‘झिंगाट’

ऊंची जात की अमीर लड़की।नीची जात का गरीब लड़का।आकर्षित हुए, पहले दोस्ती,फिर प्यार कर बैठे। घर वालेआड़े आए तो दोनों भाग गए।जिंदगी की कड़वाहट कोकरीब से देखा, सहा और धीरे-धीरे सब पटरी पर आ गया।लेकिन…! इस कहानी में नया क्या है, सिवाय अंत में आने वाले एकजबर्दस्त ट्विस्ट के? कुछ भी तो नहीं। फिर इसी कहानी परबनी मराठी की ‘सैराट’ कैसे इतनी बड़ी हिट हो गई कितमाम भाषाओं में उसके रीमेक बनने लगे। कुछ बात तोजरूर रही होगी उसमें। तो चलिए, उसका हिन्दी रीमेक भीबना देते हैं। कहानी को महाराष्ट्र के गांव से उठा करराजस्थान के उदयपुर शहर में फिट कर देते हैं। हर बात, हरसंवाद में ओ-ओ लगा देते हैं। थारो, म्हारो, आयो, जायो, थे,कथे, कोणी, तन्नै, मन्नै जैसे शब्द डाल देते हैं (अरे यार,उदयपुर जाकर देखो, लोग प्रॉपर हिन्दी भी बोल लेते हैं।और हां, यह ‘पनौती’ शब्द मुंबईया है, राजस्थानी नहीं)। हां,गानों के बोल हिन्दी वाले रखेंगे और संगीत मूल मराठीफिल्म वाला(ज्यादा मेहनत क्यों करें)। ईशान खट्टर औरजाह्नवी कपूर जैसे मनभावन चेहरे, शानदार लोकेशंस, रंग-बिरंगे सैट, उदयपुर की खूबसूरती… ये सब मिल कर इतनाअसर तो छोड़ ही देंगे कि पब्लिक इसे देखने के लिएलपकी चली आए। तो जनाब, इसे कहते हैं पैकेजिंग वाली फिल्में। जब आपदो और दो चार जमा तीन सात गुणा दस बराबर सत्तर करतेहैं तो आप असल में मुनाफे की कैलकुलेशन कर रहे होते हैंन कि उम्दा सिनेमा बनाने की कवायद। दो अलग-अलगहैसियतों याजातियों केलड़के-लड़कीका प्यार औरबीच में उनकेघरवालों का आ जाना हमारी फिल्मों के लिए कोई नया याअनोखा विषय नहीं है। मराठी वाली ‘सैराट’ के इसी विषयपर होने के बावजूद मराठी सिनेमा की सबसे बड़ी हिटफिल्म बनने के पीछे के कारणों पर अलग से और विस्तारसे चर्चा करनी होगी। लेकिन ठीक वही कारण आकर उसकेहिन्दी रीमेक को भी दिलों में जगह दिलवा देंगे, यह सोच हीगलत है। बतौर निर्माता करण जौहर का जोर अगरपैकेजिंग पर रहा तो उसे भी गलत नहीं कहा जा सकता।‘हंपटी शर्मा की दुल्हनिया’ और ‘बद्रीनाथ की दुल्हनिया’जैसी कामयाब फिल्में दे चुके शशांक खेतान की इस फिल्मको हिन्दी में लिखने और बनाने में लगी मेहनत दिखती हैलेकिन जिस किस्म की मासूमियत, गहराई, संजीदगी,इमोशंस और परिपक्वता की इसमें दरकार थी, उसे ला पानेमें शशांक चूके हैं-बतौर लेखक और बतौर निर्देशक भी।फिल्म के संवाद काफी साधारण हैं, एक भी ऐसा नहीं जोअसर छोड़ सके। फिल्म की एडिटिंग सुस्त है। किशोर उम्र की प्रेम-कहानियां यानी टीनऐजर लव स्टोरीअगर कायदे से बनी हों तो तो बचकानी लगने के बावजूददेखी और सराही जाती है। इस फिल्म के शुरूआती हिस्सेमें लड़का-लड़की का एक-दूजे की तरफ बढ़ने का हल्का-फुल्का हिस्सा प्यारा लगता है। लेकिन बाद वाले हिस्से मेंमामला ठस्स पड़ जाता है। नतीजे के तौर पर न तो हमेंनायक-नायिका से हमदर्दी होती है, न उनका दर्द महसूसहोता है और न ही हम उनके संघर्ष के सफर के साथी बनपाते हैं। फिल्म बड़ी ही आसानी से अमीर-गरीब या ऊंच-नीच वाले विषय पर ठोस बात कह सकती थी लेकिनलगता है कि बनाने वालों ने पहले से ही किसी विवाद यागंभीर बहस में न पड़ने की ठान रखी थी। ईशान अपने किरदारमें फिट रहे हैं। उनकेकाम में दम दिखता है।हालांकि उन पर बड़ेभाई शाहिद कपूर काकाफी असर नजरआता है। जाह्नवी स्टारमैटीरियल हैं। अपने किरदार के मुताबिक जरूरी अकड़और दमक दिखाने में वह कामयाब रही हैं। संवाद अदायगीमें सुधार लाकर वह और चमकेंगी। इमोशनल दृश्यों में उन्हेंअभी और मैच्योर होने की जरूरत है। यह फिल्म एक खूबसूरत काया भर है-बिना दिल की, बिनाधड़कन की। ‘सैराट’ की छाया से परे जाकर और उससेतुलना किए बिना देखें तो भी यह एक आम, साधारणप्रॉडक्ट ही बन पाई है। इसमें वो बात नहीं है जो आपकेदिलों की धड़कनों को तेज कर सके या उन्हें थाम सके। हां,टाइम पास के लिए यह बुरी नहीं है।

पूरा पढ़िए...

बॉयोपिक या सत्य घटना पर फिल्मो का बढ़ता चलन

फ़िल्म समीक्षक : इदरीस खत्री : दोस्तो भारतीय फिल्मों को नया विषय मिल गया है ऐसी फिल्में न केवल आम लोगो तक उन लोगो की ज़िन्दगी की जद्दोजहद दिखा कर, उनके लगन और मेहनत से जनता को न केवल प्रेरित करती है बल्कि प्रेरणा दायक भी होती है बॉयोपिक यानी जीवन वृतान्त आधारित फिल्म या किसी पूर्व घटित घटना को फ़िल्म रूप दे दिया जाए वेसे भारत मे यह चलन लगातार चल रहा है परंतु अभी अभी इसका क्रेज बड गया है, हालिया कामयाब फ़िल्म संजू संजय दत्त की ज़िंदगी…

पूरा पढ़िए...

संजय दत्त की ज़िंदगी किसी फिल्मी कथा से कम नही रही है

संजू इदरिस खत्री द्वारा,,,, दोस्तो संजय दत्त की ज़िंदगी किसी फिल्मी कथा से कम नही रही है राजकुमार ने बायोपिक बना कर निश्चित ही कोई सट्टा नही खेला संजय की ज़िंदगी नामा हर भारतीय जानना चाहता है नाम, शोहरत, पैसा अगर आता है तो नशा, सेक्स, पीछे से दबे पांव आना लाजमी है| जैसे गाड़ी खरीदी तो पेट्रोल लाजमी होगा वेसे ही नाम, शोहरत, पैसा जब पैरों तले आता है तो नशा,लडकिया आना लाजमी होगा| नही तो वह शख्स सन्त ही होगा जो बच निकले इस से ख़ैर संजू पर…

पूरा पढ़िए...

“102 नॉट आउट” हस्ती गुदगुदाती फ़िल्म  नॉट आउट 

"102 नॉट आउट"

समीक्षक इदरीस खत्री : दोस्तो फ़िल्म से पहले एक छोटी चर्चा ज़रूरी है क्योंकि भारत मे भी अब परिवर्तित सिनेमा का दौर आ गया लग रहा है मिसाल के तौर पर न्यूटन, गुड़गांव, फुकरे, ओक्टोबर अब 102 नॉट आउट कुछ फिल्मो के विषय ही आम इंसान के करीब होते हुवे गुजरते है क्योंकि फ़िल्म या तो मनोरंजक, या तो यथार्थवादी, या सामाजिक परिदृश्य को साकार करती होती है लेकिन कुछ फ़िल्में केवल विषय परक होती है जो कि मनोरंजन के गलियारे से होते हुवे एक सन्देश पहुचाती है दर्शकों तक तो…

पूरा पढ़िए...

जर्स  इन्फिनिटी वार  भाग 3  विश्लेषण

ऐवेंजर्स  इन्फिनिटी वार

फ़िल्म विश्लेषक : इदरीस खत्री – ऐसी क्या आफत आने को है कि उससे निपटने के लिए एक, दो या दस सुपर हीरो भी कम पड़ गए जो कि सारे सुपर हीरोज को एकजुट होना पड़ रहा है, सारे सुपर हीरोज का एकजुट होकर लड़ने के लिए तैयार होना ही अन्देशा पैदा कर रहा है कि सामने विलेन या खलनायक कितना खतरनाक होकर उसकी ताकत कितनी असीम होगी साथ ही वह की कदर विनाशकारी होगा तो वह खलनायक है थॉनोस, अब कई दोस्तो/स्टूडेंट्स ने फोन पर थॉनोस के बारे में…

पूरा पढ़िए...

ऐवेंजर्स  इन्फिनिटी वार वीश्लेशन भाग 2

ऐवेंजर्स  इन्फिनिटी वार

फ़िल्म विश्लेषक : इदरीस खत्री ऐवेंजर्स इन्फिनिटी वार वीश्लेशन , भाग 2 इस भाग में हम चर्चा करेंगे सुपर हीरोज की कौन कौन से सुपर हीरो  फ़िल्म में इसका खुलासा कर देता हूँ ताकि दर्शक अपने अपने सुपर हीरो को देखने से महरूम न रह जाए तो दोस्तो मार्वल प्रोडक्शन कंपनी ने किस खूबसूरती से सारी फिल्मो में कुछ कुछ सुराग छोड़े है और फिर उनकी तारतम्यता कैसे मिलाई है यह इन्फिनिटी वार में देखने को मिलेगा मेरे विश्लेषण से भी आपको याद आते जाएगा कैसे सारी फिल्मो के तार से तार…

पूरा पढ़िए...

ठग्स ऑफ हिन्फोस्तान :- कुछ रोचक तथ्य

ठग्स ऑफ हिन्फोस्तान

पूर्वाकलन दोस्तो आमिर खान की फ़िल्म हो और चर्चा न हो और यहां तो आमिर मिस्टर परफेक्शनिस्ट के साथ महानायक अमिताभ बच्चन जी है तो दोस्तो ने फोन पर कहा कुछ इस पर भी दोस्तो के इसरार पर मना न कर पाया चलिए फ़िल्म पर बात करते है अंग्रेजो ने एक ठग बैरम को पकड़ा तो उस ठग के अपराध स्विकारोत्ति(कंफेशन) पर एक नावेल लिखा गया था 1839 में फिलिप मेडौ टेलर द्वारा कन्फेशन ऑफ ए ठग उसी पर आधारित है फ़िल्म आमिर खान बैरम ठगों के सरदार का किरदार…

पूरा पढ़िए...